Tag: Apne Aap Ko Jano part-3

Apne Aap Ko Jano part-3

Apne Aap Ko Jano part-3 Apne Aap Ko Jano part-3 भिद्यते हृदयग्रन्थिः छिद्यन्ते सर्वसंशयाः। क्षीयन्ते चास्य कर्माणि तस्मिन्दुष्टे परावरे ॥                                                              मुण्डकोपनिषद् (२.२.८)          हृदय ग्रन्थि खुलने पर अविद्याजन्य सभी संशय समाप्त हो जाते हैं और उसी के साथ सभी कर्म-बन्धन भी क्षीण हो जाते हैं। ऐसे ज्ञानी को परम तत्त्व के दर्शन होते हैं। […]