Tag: प्रेम और स्वार्थ में अंतर

परमार्थ दृष्टि

परमार्थ दृष्टि सद्गुरु से परमार्थ दृष्टि प्राप्त होनेपर ज्ञात होगा , कि राधा – कृष्ण , सीता – राम , लक्ष्मी – नारायण अथवा भवानी और शंकर आदि प्रथक – प्रथक नहीं हैं । न इनका कभी वियोग होता है , न संयोग । इसी प्रकार ब्रह्मा , विष्णु , महेश ये तीन नहीं हैं […]